Wednesday, September 22, 2021

लदाख की करारे ठंड के सामने 24 घंटे से ज्यादा नही टिक पा रहे हैं चीनी सैनिक, भारतीय जांबाजों पर मौसम बेअसर

जाड़े के मौसम ने दस्तक दे दिया है। अपने देश का बहुत बड़ा भूभाग इस मौसम में ठंड की चपेट होता है। सबसे अधिक ठंड तो कश्मीर, लद्दाख जैसे क्षेत्रों में पङती है।जब मैदानी भूभाग में 4-5*C की तापमान में रहना दूभर हो जाता है तो कल्पना कीजिए कि जहां माइनस में तापमान होता वहां की जिंदगी कैसी होगी। हाड़ कंपा देने वाली इस ठंड में हमारे देश के सैनिक कड़ाके और असहनीय ठंड से जूझते हुए देश की सुरक्षा करने के में डटे हैं।

Ladakh 2

हाल ही में खबर आई है कि पूर्वी लद्दाख सेंटर में ठंड की वजह से चीनी सैनिक अपने घुटने टेक रहे है वहीं भारतीय सैनिकों के आगे मौसम भी बेअसर साबित हो रहा है।

इन दिनों पूर्वी लद्दाख सेंटर में हाड़ कंपा देने वाली ठंड पड़ रही है, जिसका मुकाबला चीनी सैनिक नहीं कर पा रहे हैं। ऐसी स्थिति हो गई है कि अग्रिम क्षेत्रों में तैनात सभी सैनिकों को 24 घंटों में हीं बदलने की नौबत आ गई है। जबकि वहीं भारतीय सैनिक उन्हीं क्षेत्रों में लंबे समय तक टिके रह रहे हैं। भारत के वीर जवानों के लिए चीनी सैनिक के अलावा ठंड भी किसी दुश्मन से कम नहीं है। लेकिन हमारे देश के सैनिकों ने सभी को अपना लोहा मनवा रहे है।

यह भी पढ़ें: वीडियो में देखें कैसे ओवरलोडिंग के वजह से दो हिस्सों में बँट गया ट्रैक्टर

Ladakh

एक सरकारी सूत्र ने ANI से बताया कि LOC के अग्रिम क्षेत्रों में चीनी सैनिक की अपेक्षा हमारे वीर सैनिक अधिक लंबे समय तक मोर्चा संभाल रहे हैं। चीनी सैनिकों को बेहद कठोर सर्दी और कम तापमान से ज्यादा वास्ता नहीं पड़ने की वजह से प्रत्येक दिन बदलना पड़ रहा है।

सूत्रों के अनुसार भारतीय सैनिक को इस तरह के मौसम हालात में चीन पर बढ़त हासिल है। इसका कारण यह है कि चीन रणनीतिक उंचाईयों वाले क्षेत्रो में अपने सैनिकों को भारतीय पोजीशन के समीप तैनात किया है। वहां सर्दी के असर को साफ-साफ देखा जा सकता है। उस स्थान पर चीनी सैनिक 24 घंटे से आधी वक्त तक ठंड को सहन नहीं कर पा रहे हैं जबकि भारत के जाबांज सैनिक लंबे समय तक ठंड का मुकाबला कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: 8 दोस्तों के समूह ने लगाए 23000 पौधे, हर सप्ताह वृक्षारोपण का कार्य करते हैं। पढ़ें पूरी कहानी

Ladakh 1

अप्रैल-मई में भारतीय इन्फ्रास्टक्चर के विरोध में LOC पर तनाव बढ़ाने वाले चीन ने पूर्वी लद्दाख में भारतीय सीमा के नजदीक में 60000 सैनिकों को तैनात किया। उनके पास बड़ी मात्रा में टैंक और भारी मात्रा में हथियार मौजूद हैं। भारत ने भी चीनी सैनिकों के दुस्साहस का करारा जवाब दिया है।

indians soldiers

इसी बीच, दोनों देशों के मध्य सैनिक स्तर की बातचीत चल रही है। भारत और चीन दोनों देशों के सैन्य कमांडर 8 दौर की बातचीत कर चुके हैं तथा शीघ्र हीं नौवें दौर की बातचीत होने वाली है। अबतक चीन के चालाकियों की वजह से अभी तक कोई भी रास्ता नहीं निकला है।

सबसे लोकप्रिय