Wednesday, April 21, 2021

डॉक्टर बनना चाहती हैं श्रेया, अपनी मेहनत और लगन से बिना कोचिंग के पाई सफलता। पढें पूरी कहानी

सपना हर कोई देखता है, सपना छोटा है या बड़ा यह मायने नहीं रखता। अपने सपने को पूरे करने के लिए दृढ़संकल्पित और अत्यधिक परिश्रमी होना बेहद ज़रूरी है। आज की कहानी एक ऐसी लड़की की है जिसका सपना डॉक्टर बनने का था। उसने कड़ी मेहनत से अपने सपने को साकार किया। बिना कोई कोचिंग ज्वॉइन किए उसने इस सफलता को प्राप्त किया।

श्रेया तिवारी (Shreya Tiwari)

Shreya 1

18 वर्षीय श्रेया तिवारी बिंद्रा कॉलोनी की रहने वाली है। इनकी मां का नाम वर्षा तिवारी और पिता विनय तिवारी हैं। इन्होंने बिना किसी कोचिंग के अपनी मेहनत से नीट (NEET) की परीक्षा को पास कर सफलता प्राप्त कर एक मिसाल कायम किया है। इन्होंने CBSE बोर्ड से मैट्रिक का एग्जाम दिया और 87% के करीब मार्क्स लाया। वहीं 12वीं में भी 95% के करीब मार्क्स लाकर सफलता हासिल की। इनका सपना डॉक्टर बनने का है। फिलहाल श्रेया नीट की परीक्षा पास कर चुकी हैं। इन्हें थोड़ी निराशा है कि इनका नम्बर कम आया है लेकिन यह परिश्रम में लगी है ताकि सपना पूरा कर सकें।

यह भी पढ़ें: डॉक्टर चाची ने गरीब भतीजे को हॉस्पिटल में करायी UPSC की तैयारी, भतीजा बना IAS

इन्होंने कुछ सवालों के जवाब दियें हैं जो इस प्रकार है

Shreya
  1. अगर आप सफल होना चाहें तो कैसे होंगे??
    आपका जो भी सपना है उसे पूरा करने के लिए लगातार मेहनत करें, कभी हार ना माने। अगर आप ऐसा करते हैं तो जरूर सफल होंगे।
  2. अगर आपको कोई पूछे कि आप सफल है तो??
    हां, मैंने जिस तरह परिश्रम किया, मुझे उसी अनुसार परिणाम मिला तो मैं सफल हूं। मैंने पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित किया और दिमाग को फ्रेश रखने के लिए गेम खेलें।
  3. आखिर कैसे आएं मैट्रिक और 12वीं में अच्छे मार्क्स??
    मैं कोचिंग नहीं जाती थी क्योंकि मेरे पिता ही मुझे विज्ञान पढ़ाते थे। प्रतिदिन लगभग 6 घण्टे सेल्फ स्टडी भी करती। NCERT की किताब ठीक है और हमेशा शिक्षकों के पढ़ाई बातें याद रखती।
  4. कैसे बनी इस तरह खास??
    ऐसा नही की मैं खास हूं लेकिन हां मैं अपने लगन से मेहनत से प्राप्त करती हूं। भविष्य में भी अपने सपने को पूरा करने के लिए निरंतर मेहनत करूंगी।
  5. आगे आप ख़ुद को कहां देखना चाहती हैं??
    डॉक्टर बनकर सेवा करते हुए। यह मेरा सपना है जिसे मैं पूरा करने के लिए निरंतर प्रयास करूंगी।

6.डॉक्टर बनकर करना क्या है??
लोगों की सेवा करनी है और पैसे भी कमाने हैं।
आगे श्रेया बताती हैं कि अगर आप सफल होना चाहते हैं तो हमेशा परिवार का आशीर्वाद लेकर आगे बढ़ना चाहिए।

यह भी पढ़ें: IIT ग्रेजुएट तेजस्वी ने दूसरी प्रयास में पास की UPSC परीक्षा, बनीं IAS

बिना किसी कोचिंग के अपनी मेहनत से नीट की परीक्षा पास करने के लिए हम श्रेया तिवारी (Shreya Tiwari) को शुभकामनाएं देते है और उम्मीद करते है यह अपना सपना पूरा करेंगी।

सबसे लोकप्रिय